Home साड्डा हक

साड्डा हक

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || ).push({}); हम जिन ढांचों में बंधकर इस दुनिया को चलाने का काम करते हैं, उन ढांचों की वजह से यह केवल कोरी कल्पना हो सकती है की दुनिया से विषमताओं का...
हम असम को नहीं जानते. बस मानचित्रों, किताब के कुछ पन्नों और अख़बार की सुर्ख़ियों से असम का हल्का-फुल्का परिचय हासिल किया है. यह परिचय भी केवल नाम और राजधानी छोड़कर यादों के कोने में बहुत देर नहीं टिकता....
एक तस्वीर दिल्ली की हवाओं की है और दूसरी प्रधानमंत्री के फिटनेस चैलेन्ज की . एक तस्वीर दिल्ली की अंधड़ बनती सड़कों की है और दूसरी उस हरी घास के मैदान की ,जहां प्रधानमंत्री अपनी सुबह की शुरुआत को...
नवम्बर का महीना! फेसबुक की वर्चुअल वॉल को मैं अपने फ़ोन पर देख ही रहा था कि मेरी नज़र एक स्टेटस पर आकर जम गई। पोस्ट मेरे साथ आईआईएमसी में पढ़ी एक लड़की ने लिखी थी। पोस्ट अपने आप...
“हम खाली हाथ वापस जाने के लिए इतनी दूर पैदल चल कर नहीं आये हैं। सरकार हमें जेल में डाल दे, हम पर गोलियाँ चला ले लेकिन हमने हमारी जमीनें वापस कर दे। वे हमारी जमीनें हैं, हमारे बच्चों...
विचारधारात्मक मतभेदों को भुलाते हुये महाराष्ट्र की सभी लेबर यूनियन साथ आ गई हैं. ये महाराष्ट्र के श्रम विभाग के फैक्ट्रियों को बंद करने में आसानी के नये नियमों का विरोध कर रहे हैं. बताते चलें कि महाराष्ट्र देश...
सुप्रीम कोर्ट के जजों द्वारा की गयी प्रेस कॉन्फ्रेंस ऐतिहासिक और अप्रत्याशित थी. हालांकि इसमें ऐसा कोई खुलासा नहीं हुआ, जिसके लिए अमूमन प्रेस कॉन्फ्रेंस की जाती है. खुलासे की सम्भावना लिए पत्रकार जजों को अपने सवालों से उकसाते...
यह लेख द इंडियन एक्सप्रेस  के द आइडियाज पेज  पर छपे लेख प्राइड एंड प्रेज्यूडिस  की हिंदी में प्रस्तुति है. इस लेख को लिखने वाले बद्रीनारायण, गोविंद बल्लभ पंत सामाजिक विज्ञान संस्थान, इलाहाबाद में प्रोफेसर हैं. आप कविताएं भी...

सोशल मीडिया

0FansLike
48FollowersFollow

हमारी पसंद

विज्ञापन

- Advertisement -